thyroid; थायराइड बीमारी, थायराइड का इलाज, लक्षण, tsh टेस्ट, नार्मल थाइरोइड व रामबाण इलाज

  थायराइड एक ऐसी बीमारी जो हर 7 वे व्यक्ति मे पाई जाती है! थायराइड रोग से संबंधित सभी जानकारी ना होने के कारण सही से इलाज नही हो पाता और ये समस्या बढ़ती चली जाती है तो आज हम अपने इस लेख मे आप को थायराइड से संबंधित सभी जानकारी जैसे थायराइड क्या है, थायराइड के लक्षण, थायराइड कैसे होता है, थायराइड कैसे ठीक होगा, थायराइड टेस्ट, थाइराइड डाइट, थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय इन सभी प्रशन के सही जवाब और जानकारी आप को यहाँ मिलेगी। 

thyroid; थायराइड बीमारी, थायराइड का इलाज, लक्षण, tsh टेस्ट, नार्मल थाइरोइड व रामबाण इलाज

thyroid

थायराइड क्या है , थायराइड बीमारी

thyroid एक बीमारी है जो गले की ग्रंथि से उत्पन्न होती हैं, थायराइड मे गले की ग्रंथि का संतुलन बिगड़ जाता है ज़्यादा तर लोगों मे आयोडीन की कमी के कारण ये बीमारी होती है तो कुछ लोगों मे कई अन्य कारणों से thyroid होता है थायराइड के कारण कुछ लोग अधिक मोटे होने लगते है तो वही कुछ लोग अधिक दुबले होने लगते है तो वही कुछ लोगों मे गले मे सुजन और घबराहट के साथ ही दिल की धड़कन का तेज़ हो जाना जैसी समस्या होती है।

click 👉आंखों के नीचे काले घेरे हटाए How to Remove Dark circles under the eyes

थायराइड में क्या परेशानी होती है ( थायराइड प्रॉब्लम )
problems in thyroid

1. thyroid थायराइड प्रॉब्लम की बात करे तो इस से हार्मोनस मे तेज़ी से बदलाव हों सकते है जिस के कारण आप के गले की ग्रंथि आधीक तेज़ी से बढ़ने लगती है जो आप की खुबसुरती खराब करने के साथ ही खाना या पानी निगलने और सास लेने मे भी तकलीफ दे सकती है। 

2. हृदय रोग (दिल की बीमारी) Heart disease

 thyroid थायराइड कैलेस्ट्रोल नियंत्रित नही रहने देता जो हृदय रोग का कारण भी बन सकता है।

3. ये आप को मानसिक तौर से चिड़ चिड़ा या मानसिक रोगी भी बना सकता है

4. इस से महिलाओ मे बाँझपन की समस्या भी हो सकती है

5. शरीर का अधिक मोटा या दुबला हो जाना

6. दिल की धड़कन का बढ़ना या घबराहट होना

click 👉 दाद खाज जांघों की खुजली को जड़ से खत्म करे treatment of fungal infection ringworm

नार्मल थाइरोइड कितना होता है

What is normal thyroid

0.4 से 4.0 तक ये नोर्मल माना जाता है यदि आप का इलाज शुरू है तब ये 0.4 से 3.5 तक ही नार्मल माना जाता है इस से अधिक या कम होने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए

थायराइड की कमी से क्या होता है
What causes thyroid deficiency

1. शरीर का मोटा होना या वजन बढ़ना

2. अधिक गर्मी लगना या पसीना आना 

3. घबराहट होना नींद न आना, प्यास लगना, अत्यधिक 

4. दिल धड़कना का सुस्त होना और थकान महसूस होना

5. मासिकचक्र का समय से ना होना

थायराइड बढ़ने पर क्या होता है
What happens when the thyroid grows?

1. शरीर का दुबला होना या वजन घटना

2. गले मे दर्द होना

3. निगलने या सांस लेने मे तकलीफ होना

4. दिल की धड़कन का तेज़ होना और कमज़ोरी महसूस होना

5. मासिकचक्र और बांझपन की समस्या

थायराइड टेस्ट

thyroid test

रक्त परीक्षण blood test से T3, T3RU, T4 और TSH का प्रमाण जाँचा जाता है ये पैथोलॉजी लैब मे होता है इस बात का ध्यान रखे की हमेशा ये टेस्ट अच्छी लैब और अच्छे डॉक्टर से ही कराए। 

click 👉 पुरुष बांझपन दूर करे मर्दाना ताकत कैसे बढाए

tsh

thyroid उत्तेजक हार्मोन टेस्ट

अगर आप बिना किसी कारण के थका हुआ महसूस कर रहे हैं तब आप को tsh की जाँच करानी होती है रक्त परीक्षण blood टेस्ट से tsh की जांच की जाती है। थायराइड ज़्यादा होने पर tsh की मात्रा मे कमी आती है वही थायराइड कम होने पर tsh की मात्रा अधिक पाई जाती है। tsh मस्तिष्क की एक ग्रंथि मे बनता है जो आप के शरीर मे thyroid की समस्या को सही से दिखाता है। अधिक तर मामलों मे tsh की जाँच हर 3 महीनों मे एक बार करनी होती है वही कुछ मामलों मे tsh की जाँच 6 महीनों मे एक बार करनी होती है। tsh की नॉर्मल वैल्यू 0.5 to 5.0 mIU/L होती है। प्रेग्नेंसि के दौरान tsh लेवल कम या ज़्यादा हो सकता है जिसका निदान डॉक्टर दवा गोलियों दुवारा करता है।

थायराइड के लक्षण Symptoms of thyroid

थायराइड के शुरुवाती लक्षण मे वज़न कम होना या बढ़ना जैसी समस्या होती है लेकिन धीरे धीरे समस्या बढ़ने लगती है।

थायराइड लक्षण

1. thyroid मे डिप्रेशन और मानसिक समस्या

2. त्वचा रूखी होने के साथ बालों का झड़ना

3. कमज़ोरी और थकान महसूस होना

4. कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशेर की समस्या होना

5. केअब्ज़, बदन दर्द और घुटनों मे दर्द होना

6. घबराहट होना अधिक पसीना आना

थाइरोइड अटैक
thyroid storm

थायरॉइड के मरीज मे ऑस्टियोपोरोसिस के कारण हार्मोनस अधिक गति से विकसित होते है जो कैलेस्ट्रोला और हार्ट अटैक जैसी समस्या पैदा कर सकते है और साथ ही thyroid मे हाई ब्लड प्रेशेर के कारण दिल की बीमारियों को भी आमंत्रित करते है।

थायराइड को कैसे खत्म करें

1. थायराइड का इलाज

2. थायराइड का होम्योपैथिक इलाज

3. थायराइड का आयुर्वेदिक इलाज

4. थायराइड का घरेलू उपचार

5. थयरॉइड के लिए योग

थायराइड का इलाज

thyroid Diagnosis and treatment

इस मे डॉक्टर आप की मेडिकल रिपोर्ट के हिसाब से आयोडीन या थायरॉयड विरोधी दवाओं और गोलियों से आप का इलाज करता है। ज़्यादा तर इस्तेमाल होने वाली गोलियां और टैबलेटस के नाम है levothyroxine  (Levoxyl, Synthroid, Tirosint, Unithroid, Unithroid Direct), thyroxine (T4) इन दवा और गोलियों का लक्ष्य थायराइड को सामान्य रूप में वापस लाना होता है इन्हें बिना डॉक्टर की सलाह के कभी नही लेना चाहिए. thyroid सर्जरी से भी ठीक किया जा सकता है थायरॉयड ग्रंथि के बड़े हिस्से को सर्जरी कर हटाने से हार्मोन का उत्पादन कम होजाता है। इस स्थिति में, आपको जीवन भर थायराइड विरोधी दवा या गोली नही लेनी पड़ती। 

थायराइड का होम्योपैथिक इलाज

thyroid and it's homeopathy treatment

thyroid  के होम्योपैथिक इलाज मे जीवन भर दवाओं पर निर्भर नहीं रहना पड़ता, दवाओं का कोई साइड-इफेक्ट नहीं रहता, कभी सर्जरी भी नही करनी होती इस मे सिर्फ लंबे समय तक गोलियां से उपचार होता है होम्योपैथी थायराइड उपचार मे आम तौर पर इस्तेमाल होने वाली दवाइयाँ Natrum Muriaticum, Sepia, Carbonicum, Kali Carbonicum, Thyroidinum हैं इस्तेमाल के लिए डॉक्टर की सलाह ज़रूरी है

थायराइड का आयुर्वेदिक इलाज

Ayurvedic treatment and medicine for thyroid

आयुर्वेद दुनिया का सब से पुराना और असर दार तरीका है इस से किसी भी बीमारी को जड से खत्म किया जा सकता है। बड़े हुए थायराइड या thyroid की कमी को आयुर्वेदिक इलाज से समान्य किया जा सकता है।

अश्वगंधा Ashwagandha

अश्वगंधा आयुर्वेद मे इस्तेमाल होने वाली प्रमुख दवाओं मे से एक है। अश्वगंधा में मौजूद ऑक्सीडेंट आपके इम्युन सिस्टम को मजबूत करती है। अश्वगंधा की जड का चूरन बना कर रोज़ 600 मिली ग्राम खाने से थायराइड से हमेशा के लिए छुटकारा पाया जा सकता है। 

पिपेरिन Piperine

काली मिर्च (Black Pepper) मे पाया जाने वाला पिपेरिन पधर्थ में एंटी-कार्सिनोजेनिक (Anti-Carcinogenic), एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant), नेफ्रॉन-प्रोटेक्टिव (Nephron-Protective), एंटी-डिप्रेसेंट (Anti-Depressant) और न्यूरोप्रोटेक्टिव (Neuroprotective) पाया जाता है जो हरमोंस को नियंत्रित रख thyroid को ठीक करता हैं।

गिलोय Giloy

 गिलोय कई सारे रोगो का अचूक इलाज कर सकता है गिलोय मे काफी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट पाया जाता हैं। गिलोय जूस या गिलोय चूर्ण के रोज़ाना इस्तेमाल से थायराइड मे लाभ होता है। 

गुग्गुलु Gugul

गुग्गुलु का सुबह शाम 10-40 मिली ग्राम सेवन करने से thyroid सामान्य रखने मे मदद होती है और बीमारी जल्दी खत्म करने मे मदद होती है।

मुलेठी Mulethi

मुलेठी में पाया जाने वाला ट्रीटरपेनोइड ग्लाइसेरीयेनिक एसिड थायराइड को बढ़ने से रोकता है। और thyroid की बीमारी से जल्दी छुटकारा पाने मे मदद करता है। 

थायराइड का रामबाण इलाज

How to cure thyroid with food

1. हल्दी मे एंटीबायोटिक और एंटीऑक्सिडेंट गुण होते है रोजाना एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर गर्म कर के पीने से thyroid मे लाभ मिलता है। 

2. रोजाना करेले का जूस पीने से भी थायराइड मे लाभ होता है। 

3. अलसी के बीज का चूर्ण रोज़ सुबह एक चमच लेने से thyroid मे लाभ होता है। 

4. बादाम दूध भी thyroid मे बहोत लाभ दायक है

5. लौकी का जूस थायराइड मे सब से बेस्ट माना जाता है

6. तुलसी भी इस रोग मे बहोत लाभकारी होती है

7. एलोवेरा इस रोग को जड़ से खत्म करता है। 

थायराइड के लिए योग 
Yoga For thyroid

1. सर्वांगासन यह औथायरोक्सिन को नियंत्रित करता है।

2. भुजंगासन यह ग्रंथियों को उत्तेजित करने में मदद करता है। 

3. सूर्य नमस्कार यह शरीर को शांत रखता और घबराहट कम करता है। 

 4. हलासना यह गले और गर्दन तक सभी ग्रंथियों नियंत्रित करता है

 5. मत्स्यसन यह सांस की नाली को खोलता है और ऑक्सीजन लेवल बढ़ाता है। 

6. सेतुबंधासन कमर व गर्दन से संबधित कुछ तकलीफ को दूर करता है

 7. सिरहसाना यह तनाव दूर करता है और पाचन क्रिया को सुधार ता है

थायराइड रोग में क्या खाएं 
Best Diet for thyroid

1. इस रोग मे आयोडीन Iodine सब से महत्वपूर्ण हैं इसलिए आयोडीन वाला नामक, मछली, झींगे और अंडे अपने आहार मे शामिल करे। 

2. जस्त युक्त खाद्य पदार्थ जैसे सीप, मटन और चिकन खाना चाहिए

3. फल नारियल पानी, केला, पाइनेपल, संतरा, अनार, जामुन, चिकु, सेब, कीवि और पपीता। 

4. सब्जियां लौकी, करेला, कददू, ,मेथी, सरसों, आलू, मशरूम व सभी हरि सब्जियां

5. दाल  तुअर, मूंग, उड़द, मोठ, मसूर, चना, राजमा, मटर, सेम, और कुल्थी दाल

6. डेयरी प्रोडक्ट दूध, दही, मक्खन, चीज, पनीर, क्रीम

और आइसक्रीम

सूखे मेवे केसर, काजू , बादाम, अंजीर, किशमिश, पिसता, खजूर, मुनक्‍का, किशमिश, और अखरोट

थायराइड में क्या ना खाएं 
Foods to Avoid In thyroid

1. बेकरी प्रोडक्ट मैदे से बने पदार्थ जैसे पिज़्ज़ा, बर्गर, पेस्टि, केक, ब्रेड और बिस्किट

2. सब्ज़ियां बैंगन, ब्रोकली, फूलगोभी, पत्तागोभी, गवार बीन्स। 

3. ड्रिंक्स चाए, कॉफी अल्कोहल युक्त ड्रिंक्स। 

फास्ट फूड नूडल्स, मैग्गी, पावभाजी, भेल पूरी और चाट

4. ऑइली फूड समोसा, कचोरी, पकोड़े, मसाले दार सब्ज़ियां

5. कुछ अन्य पधार्थ जैसे, सोयाबीन, चावल, अरहर, निंबू, और अन्य फाइबर युक्त पधार्थ।

इस लेख मे थायराइड tsh और thyroid से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी आप को दी गई है। आप हमारे इस लेख को रिश्तेदारों, दोस्तों, या अन्य लोगों के साथ facebook, whatsapp या अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर कर के उनकी मदद कर सकते हैं और साथ ही लाइक, कॉमेंट कर अपने सवाल भी पूछ सकते है। धन्यवाद। 


Reactions

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ